Translate

शुक्रवार, 1 जुलाई 2016

नग्नता (Nagnata - Nudity by Purwa Bharadwaj)

वीनस की मूर्ति ने मेरा ध्यान खींचा। सिर्फ वही नहीं, लिनेन की पट्टियों में लिपटी अनजान औरत की ममी ने भी जल्दी आगे बढ़ने नहीं दिया था। लंदन स्थित ब्रिटिश म्यूज़ियम की सैंकड़ों कलाकृतियों के बीच खासकर दो जगह मैं देर तक रुकी रही - एक तो वीनस की मूर्ति के सामने जो नग्न थी और नहाते समय किसी के द्वारा देख लिए जाने की प्रतिक्रियास्वरूप अपने को छुपाने की कोशिश कर रही थी और दूसरे ममी ही ममी जहाँ थी। एक पत्थर में बसी होने के बावजूद मांसल व जीवंत और दूसरी काष्ठवत् व निश्चल। एक कला की पराकाष्ठा और दूसरी विज्ञान का चमत्कार।

सोच रही थी कि नग्नता किसी अबूझ पहेली की तरह है। मानव शरीर की नग्नता, उसमें भी खासकर स्त्री शरीर की नग्नता मानो चुनौती देती है - सबको। सभ्यता को, संस्कृति को, विचार को, कला को, कलाकार को, विज्ञान को चुनौती देती है। तभी तो सब उससे जूझने और निबटने में लगे रहते हैं। जैसे उस किले को फतह करने के बाद ही बात आगे बढ़ सकती है।

पोट्रेट गैलरी में जब मैं नग्न शरीर को दिखलाते हुए चित्रों को देख रही थी तो यही लगा कि नग्नता की अपनी भाषा है। उससे लोग डरते हैं। उस भाषा को सब समझते हैं, लेकिन उस भाषा का इस्तेमाल करने में हिचकिचाते हैं। उस भाषा की ताकत जानते-बूझते हुए भी लोग उस पर पर्दा डालते हैं। याद कीजिए जब सरे राह कोई हिंजड़ा अपने कपड़े उठाने का इशारा भर कर देता है तो उसके आसपास के अपने को सभ्य माननेवाले लोग किस तरह अपनी नज़रें चुराने लगते हैं।

नग्नता की सत्ता होती है। लगभग 60 साल की उम्र में नारीवादी विचारक जर्मन ग्रियर की नग्न तस्वीर साफ़ और सीधी निगाह से यही तो कह रही थी। सवाल उठता है कि नग्नता की सत्ता का कौन कब और कैसे इस्तेमाल करता है। या किसे इसकी इजाज़त है। सही मायने में सत्ता का इस्तेमाल करने की इजाज़त मिलने से रही, उसे अपने हाथ में लेना पड़ता है। यह हम पर निर्भर करता है कि नग्नता को हम कमज़ोरी में बदल जाने देते हैं या ताकत में।

                                                                                                                        चित्र : सुतनु पाणिग्रही

यह साफ़ दिखता है कि नग्नता पर कब्ज़ा करने की होड़ लगी रहती है। कारण, उसकी खरीद-बिक्री का व्यापार मुनाफ़े का है। इसका मतलब है कि उसका मोल है। जिसने अपनी मर्ज़ी से बेचा और यदि उसने वाजिब दाम लिया तो वह ताकतवर है। यदि दूसरों का दबाव है और वाजिब दाम न पाया तो शोषण-उत्पीड़न और ठगी का शिकार। यौनकर्मियों को लेकर होनेवाली बहसों के केंद्र में यही मुद्दा रहता है।

अक्सर सस्तापन और फूहड़पन से नग्नता को जोड़ दिया जाता है। आम राय बना दी जाती है कि जो नग्न है वह गंदा, अश्लील है। कम से कम वह फूहड़ ज़रूर कहलाता है। यह किसकी नज़र में है, इसे समझना पड़ेगा। उन्हीं की नज़र में, जो चाहते हैं कि नग्नता की उनकी परिभाषा ही मान्य हो और जिनको उससे डर लगता है। हर चीज़ की तरह नग्नता की भी परिभाषा अलग अलग हो सकती है, लेकिन दिक्कत है केवल एक तरह की परिभाषा को थोपने से। नग्नता की परिभाषा और उसका पैमाना तय करने का एकाधिकार हासिल करने की होड़ भी पुरानी है।

http://4.bp.blogspot.com/-o08kbf0n580/T_cfYOzm8mI/AAAAAAAAT6c/WADsCm8HcvM/s1600/1900+photo_vallarpadm+island.jpg

                                                             चित्र : इंटरनेट

बीसवीं सदी के आरंभिक वर्षों में त्रावणकोर में धान के खेतों में काम करती औरतों के खुले हुए वक्ष देखकर शायद किसी को न लाज लगती थी और न दया उपजती थी। ऊपर के चित्र में  ये औरतें भी सिमटी-सकुचाती हुई नहीं दिख रही हैं। इसके उलट केरल में इझावा समुदाय की औरतों ने जब नायर ब्राह्मण औरतों की तरह अपनी नग्नता छुपाने का प्रयास शुरू किया तो वे दंडित हुईं। कमर के ऊपरी हिस्से को ढँकने और ब्लाउज़ पहनने की सज़ा किसी औरत को मिली हो, अपने आप में यह तथ्य चौंका देनेवाला लगता है। जाति, जेंडर और यौनिकता के इस 'मिक्सचर' ने वाकई नग्नता को सरल नहीं रहने दिया है। पूर्ण नग्नता और आंशिक नग्नता की दर्जाबंदी को समझने में भी इससे मदद मिलती है।

आंशिक नग्नता के कई पक्ष हैं। शरीर का कौन सा हिस्सा ढँकना है और क्या अनावृत्त रहेगा, यह सोच समझ कर चुना जाता है। इसने फैशन से लेकर तरह तरह की कलाकारी को जन्म दिया है। जब मैंने नाभि में लटके हुए घुँघरू का चित्र देखा, पीठ, वक्ष, नितंब और एड़ी के पास के गोदने (Tattoo) को देखा तो उनका बेबाकपन आकर्षक लगा। वे प्रदर्शनीय हैं और प्रदर्शनीय होने में नग्नता का समावेश है।

पार्श्व नग्नता अधिक मान्य है और आकर्षक भी लगती है। वह जिज्ञासा और उत्सुकता जगाती है। यह आमंत्रण भी है। शरीर को ख़ास कोण से दिखाकर कलाकार नग्नता के रहस्य-रोमांच को कैद करना चाहते हैं। उसे दर्शक तक स्थानांतरित करने के लिए यह ज़रूरी है।

नग्नता का रतिकर्म से रिश्ता शाश्वत है। यह इतना हावी रहता है कि किसी भी तरह की नग्नता को देखकर लोग उसी चरम बिंदु पर पहुँच जाते हैं, जबकि उससे इतर भी नग्नता का इस्तेमाल होता है। दिगंबर साधुओं को देखिए। वैसे इस प्रसंग में एक दिलचस्प वाकया बताना चाहती हूँ। मेरी एक दोस्त गाड़ी चला रही थी। अचानक एक लाल बत्ती पर वह रुकी जहाँ से नागा साधुओं का जुलूस गुज़र रहा था। उस जुलूस का नेतृत्व एक युवा और निहायत खूबसूरत साधु कर रहा था। ठीक लाल बत्ती पर मेरी दोस्त की नज़र उस साधु की नज़र से टकराई। क्षण भर के लिए मेरी दोस्त हतप्रभ रह गई। उसे समझ नहीं आया कि वह क्या करे, किधर देखे। धार्मिक कर्म में लगे हुए उस साधु की नज़र सपाट थी।

शायद उतनी ही सपाट नज़र 12 वीं सदी की अक्का महादेवी की रही होगी और 14 वीं सदी की लाल देद की भी। उनकी नग्नता पर उँगली उठी, टीका-टिप्पणी हुई, लेकिन उन्होंने अपनी राह नहीं छोड़ी। नग्नता का चुनाव उनका प्रतिरोध था। मुझे नहीं मालूम कि उस प्रतिरोध में रोष कितना था और इस दृष्टि से उनके पदों को गहराई से पढ़ना चाहती हूँ। इतना समझ में आता है कि उनकी भक्ति और धार्मिकता  की पराकाष्ठा के रूप में सबसे पहले उनके निर्वस्त्र रहने का ज़िक्र यों ही नहीं किया जाता है। औरत होने के नाते उनकी नग्नता के आयाम बढ़ जाते हैं।

आनंद का स्रोत न भी कहें तो बहुत बार आनंद हासिल करने की पूर्व शर्त के रूप में नग्नता को देखा जाता रहा है। बहुतों को यह मानने में संकोच नहीं है कि नहाते समय, तैरते समय, समुद्र तट पर धूपस्नान करते समय, सोते समय नग्न रहना आनंददायक है। बहुत लोग इसकी वकालत करते हुए मिल जाएँगे। प्राकृतिक चिकित्सा के क्रम में तो मैंने इसका उल्लेख कई बार सुना है। विदेशों में तो Nude Beach कई मिल जाएँगे। दौड़, साइकिल की सवारी जैसे कुछेक खेल भी नग्न होकर खेले जाते हैं।

निजता और नग्नता का करीबी रिश्ता जाना-पहचाना हुआ है। यह भी सही है कि सार्वजनिकता और नग्नता का हमेशा 36 का संबंध नहीं है। यह नग्नता के स्वरूप पर निर्भर करता है। यदि यह विरोध प्रदर्शन के हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा हो तो वहाँ उसे अनिवार्य रूप से सार्वजनिक होना पड़ता है। 2004 में मणिपुर में थंगजाम मनोरमा बलात्कार कांड नग्न विरोध प्रदर्शन के कारण खासा चर्चित हुआ था। वहाँ मध्यम आयु वर्ग की औरतें सड़क पर निकलीं, तो खेल के मैदान में परस्पर विरोधी टीमों के समर्थक युवा भी दौड़ पड़ते हैं। नग्नता को अपना परचम बनाना प्रतिबद्धता के बल पर ही संभव है।

स्वेच्छा शामिल हो तो नग्नता का सौंदर्य बढ़ जाता है। इसकी गवाही किसी से भी ली जा सकती है। उस वक्त शर्म दूर-दूर तक नहीं फटकती है। शर्म का पदार्पण शायद अनधिकार प्रवेश से होता है। वीनस की मूर्ति की मुद्रा कुछ यही जतलाती है।

यदि नग्नता की उदात्तता को हम ठीक से समझ पाएँ तो शायद देवी-देवताओं की नग्न मूर्तियों के साथ नग्न मानव शरीर को भी सराह पाएँगे। वह समय ऐसा होगा जब वैध-अवैध के तराजू में नग्नता नहीं तोली जाएगी। उसे जर्मनी के म्यूनिख शहर की तरह सरकारी संरक्षण मिला है या नहीं, इसकी चिंता से परे होगा। वह किसी की निजी संपत्ति नहीं होगी, बल्कि आज़ादी के सवाल से बँधी होगी। तब ऐल्प के पहाड़ों पर नग्न हाइकिंग के लिए जानेवालों पर पाबंदी का मसला नहीं उठेगा।

मुझे नग्नता के पक्ष में प्राकृतिक और स्वाभाविक का तर्क नहीं चाहिए। जेंडर और यौनिकता पर काम करते हुए इस तर्क की धज्जियाँ हज़ारों बार उड़ाई गई हैं। न ही नग्नता को पवित्र उद्देश्य की आड़ चाहिए। साध्य और साधन की बहस भी बेमानी है। वैराग्य और साधना का चरमोत्कर्ष कहकर इसे सांसारिकता से बाहर क्यों किया जाए ? कपड़े का लगभग लाख साल पुराना इतिहास जानें, मगर उसके भाव या अभाव मात्र से जोड़कर नग्नता को न देखें।


1 टिप्पणी:

  1. very thought provoking. love it. read in one breath. could not stop reading. Thanks Purwa what a lovey piece

    Archana

    उत्तर देंहटाएं